वेब होस्टिंग क्या है | What is Web Hosting in Hindi

वेब होस्टिंग की जानकारी हिंदी में | Web Hosting Information in Hindi

यदि आप भी एक वेबसाइट बनाने या यदि ब्लॉगिंग में करियर शुरू करने की सोच रहे हैं, तो सबसे पहले आपको यह समझना चाहिए कि वेब होस्टिंग क्या है और यह कैसे काम करती है और इसकी आवश्यकता क्यों है।

वेब होस्टिंग क्या है (What is Web Hosting Meaning in Hindi) का सवाल कभी न कभी सबके मन में आता है। तो आज हम इस लेख में आपको वेब होस्टिंग कैसे काम करता है, इसके प्रकार और इसकी आवश्यकता क्यों है जैसे कई अन्य सवालों के जवाब देने जा रहे हैं।

वेब होस्टिंग क्या है हिंदी, वेब होस्टिंग करने की क्या प्रक्रिया है, सबसे अच्छी होस्टिंग कौन सी है, होस्टिंग से क्या फायदा है, होस्टिंग क्यों महत्वपूर्ण है, web Hosting kya hai in Hindi, वेब होस्टिंग के प्रकार, वेब होस्टिंग इन हिंदी, Web Hosting meaning in Hindi, वेब होस्टिंग करने की क्या प्रक्रिया होती है समझाइए, What is Web Hosting in Hindi

आज कई ऐसे नए ब्लॉगर हैं, जो विज्ञापनों और अज्ञानता या गलत जानकारी के आधार पर गलत होस्टिंग खरीद कर अपना पैसा और समय दोनों बरबाद कर देते हैं। तो पहले से ही इसके लिए आपको पर्याप्त जानकारी होना जरूरी है।

जब आप अपनी पेशेवर व्यावसायिक वेबसाइट या ब्लॉग बनाने के बारे में सोचते हैं, तो आपको 2 बातों का ध्यान रखना चाहिए। पहला डोमेन नेम और दूसरा वेब होस्टिंग, इन दोनों के बिना आप इंटरनेट पर वेबसाइट या ब्लॉग नहीं बना सकते हैं। (अपवाद : Google का Blogger.com को छोड़कर)

Read More : डोमेन नेम क्या है | What is Domain Name in Hindi

 

वेब होस्टिंग क्या है | What is Web Hosting in Hindi

कोई भी Blooger और Web Developer आपकी जानकारी, फोटो, वीडियो आदि साझा करने के लिए और जैसे की अपनी वेब फ़ाइल और मीडिया जानकारी को सुरक्षित रखने के लिए वेब होस्टिंग सेवाओं का उपयोग किया जाता आ रहा है।

वेब होस्टिंग क्या है हिंदी, वेब होस्टिंग करने की क्या प्रक्रिया है, सबसे अच्छी होस्टिंग कौन सी है, होस्टिंग से क्या फायदा है, होस्टिंग क्यों महत्वपूर्ण है, web Hosting kya hai in Hindi, वेब होस्टिंग के प्रकार, वेब होस्टिंग इन हिंदी, Web Hosting meaning in Hindi, वेब होस्टिंग करने की क्या प्रक्रिया होती है समझाइए, What is Web Hosting in Hindi

मान लीजिए कि आपके पास पुराने जमाने का कंप्यूटर है। यह सीपीयू से जुड़ा है और इसमें आपको तेजी से पहुंच प्रदान करने के लिए एक विशिष्ट रैम है, एक प्रोसेसर और एक हार्ड डिस्क जैसी डिवाइस है, जो आपकी जरूरत की सभी जानकारी को स्टोर और सेव करती है। तूम्हे इसकी जरूरत है, दूसरे शब्दों में, आपका CPU आपका निजी सर्वर है और आप उस पर अपना डेटा होस्ट कर रहे हैं।

जब आप अपनी वेबसाइट या ब्लॉग को किसी होस्टिंग कंपनी के सर्वर पर होस्ट करते हैं तो ब्राउजर में आपकी वेबसाइट का यूआरएल टाइप करके दुनिया भर के यूजर्स आपकी वेबसाइट पर आ सकते हैं और उस पर मौजूद कंटेंट को देख सकते हैं और दुनिया के किसी भी कोने से आसानी से एक्सेस कर सकते हैं।

यह होस्टिंग आपको एक वेब होस्टिंग सेवा प्रदाता (Web Hosting Service Provider) द्वारा प्रदान की जाती है।

 

वेब होस्टिंग के प्रकार | What is Web Hosting in Hindi

वेब होस्टिंग मुख्यतः चार प्रकार की होती है, वे इस प्रकार हैं।

  • शेयर्ड वेब होस्टिंग (Shared Web Hosting)
  • डेडिकेटेड होस्टिंग (Dedicated Web Hosting)
  • क्लाऊड वेब होस्टिंग (Cloud Web Hosting)
  • व्हीपीएस वेब होस्टिंग (VPS Web Hosting)

 

शेयर्ड वेब होस्टिंग | Shared Web Hosting :

Shared Web Hosting का अर्थ है सबके साथ अपनी वेब होस्टिंग शेयर्ड करना। जैसा कि इसके नाम से पता चलता है, यह वेब होस्टिंग कई वेबसाइटों को एक साथ होस्ट कर सकती है। Shared Web Hosting में डिस्क स्पेस और सर्वर का कॉन्फिगरेशन जैसे सीपीयू, रैम और प्रोसेसर आदि अलग-अलग होते हैं, यह कई उपयोगकर्ताओं में बांटा जा सकता है।

ताकि एक से अधिक उपयोगकर्ता एक वेबसाइट पर आसानी से अपनी वेबसाइट चला सकें। Shared Web Hosting अन्य वेब होस्टिंग से बहुत सस्ती होती है, इसलिए यह उन नए ब्लॉगर्स के लिए वेब होस्टिंग का सबसे अच्छा विकल्प है जो पहली बार अपनी वेबसाइट बना रहे हैं और जिनके पास ज्यादा बजट नहीं है।

 

डेडिकेटेड होस्टिंग | Dedicated Web Hosting :

Dedicated Web Hosting में वेबसाइट के मालिक का सर्वर पर पूरा नियंत्रण होता है। यह वेबसाइट के मालिक को अपनी सुविधानुसार होस्टिंग का प्रबंधन करने की अनुमति देता है।

वह अपनी जरुरत के हिसाब से पूरी होस्टिंग सेटअप कर सकता है। जैसे ऑपरेटिंग सिस्टम, हार्डवेयर और मेमोरी आदि वेबसाइटें मालिक के नियंत्रण में हैं।

एक Dedicated Web Hosting सर्वर केवल एक वेबसाइट के डेटा को स्टोर करता है। इसीलिए इसकी गति सबसे तेज होती है और इसलिए यह अधिक महंगा भी होता है। उदा. फ्लिपकार्ट, अमेज़ॅन, स्नैपडील इत्यादि जैसी सभी प्रमुख ऑनलाइन शॉपिंग साइट Dedicated Web Hosting का इस्तमाल करती हैं।

 

क्लाउड वेब होस्टिंग | Cloud Web Hosting :

Cloud Web Hosting एक बहुत ही लोकप्रिय होस्टिंग सेवा है। क्लाउड होस्टिंग आज सबसे ज्यादा इस्तेमाल की जाने वाली होस्टिंग है। यह होस्टिंग वीपीएस होस्टिंग के समान है। यह वर्चुअल मशीनों का भी उपयोग करता है।

Cloud Web Hosting में, आपका होस्ट सर्वर का एक सेट प्रदान करता है। जिसमें सभी संसाधनों जैसे बहुत सी फाइल आदि की डुप्लीकेट कॉपी बनाकर दुनिया भर के सभी सर्वर में स्टोर कर दी जाती है। अगर कोई सर्वर व्यस्त है या सर्वर में कोई समस्या है। तो आपकी वेबसाइट का ट्रैफिक अपने आप दूसरे सर्वर पर ट्रांसफर हो जाता है।

Cloud Web Hosting में आपकी वेबसाइट को किसी सर्वर (Shared Web Hosting या Dedicated Web Hosting) पर होस्ट करने के बजाय अलग-अलग सर्वर पर होस्ट किया जाता है।

Cloud Web Hosting में कई सर्वरों को मिलाकर एक क्लस्टर सर्वर बनाया जाता है और इस क्लस्टर सर्वर पर आपकी वेबसाइट होस्ट की जाती है।

उदा. आपकी वेबसाइट पर आने वाला यूजर अमेरिका, कनाडा, ऑस्ट्रेलिया जैसे देश से है। लेकिन आपकी वेबसाइट भारत में है और आपकी वेबसाइट Cloud Web Hosting पर जुड़ जाती है। ऐसे में यूजर्स को आपकी वेबसाइट तक पहुंचने के लिए भारतीय सर्वर से कनेक्ट होने की जरूरत नहीं होगी। Cloud Web Hosting के जरिए वे अपने नजदीकी सर्वर से कनेक्ट रहेंगे। इससे वेबसाइट की स्पीड तेज होगी और सर्वर डाउन की समस्या नहीं होगी।

 

वीपीएस वेब होस्टिंग | VPS Web Hosting :

VPS होस्टिंग का पूरा नाम Virtual Private Servers Hosting है, यह Hosting Shared Hosting की तुलना में अधिक जाधा विश्वसनीय और स्थिर होती है।

इसमें सर्वर को दूसरे यूजर्स के साथ शेयर किया जाता है। लेकिन इन सर्वरों का वेब होस्ट प्रत्येक को एक अलग विभाजन देता है।

VPS Web Hosting में Storage, CPU और RAM आदि Virtual Server द्वारा वर्चुअलाइजेशन तकनीक का उपयोग करके एक से अधिक वर्चुअल मशीन बनाने के लिए बनाए जाते हैं और ये अलग-अलग वर्चुअल मशीन हैं। मशीनें अलग-अलग सर्वर के रूप में कार्य करती हैं। इसके बाद हर वर्चुअल मशीन में एक वेबसाइट होस्ट की जाती है।

इसे ही हम ‘Virtual Server’ कहते हैं, जिससे आपके पास अपना खुद का Server Space और Memory रिजर्व होती है।

VPS Web Hosting यह Shared Web Hosting और Dedicated Web Hosting का संयोजन है। शेयर्ड वेब होस्टिंग जैसे कई सर्वर पर कई वेबसाइट होस्ट की जाती हैं और डेडिकेटेड वेब होस्टिंग में एक सर्वर पर केवल एक वेबसाइट होस्ट की जाती है।

 

सबसे अच्छी वेब होस्टिंग कौन सी है | Best Web Hosting in India 2023

  • Bluehost
  • Hostinger
  • SiteGround
  • Cloudways
  • HostGator
  • GoDaddy
  • DreamHost
  • Kinsta
  • Namecheap
  • InMotion Hosting
  • A2 Hosting
  • IONOS
  • GreenGeeks

 

होस्टिंग लेते समय किन फीचर्स का ध्यान रखें | What Features to Look for in a Web Hosting Service

जहां आपको होस्टिंग लेते समय इसके कुछ महत्वपूर्ण फीचर्स का ध्यान रखना चाहिए, तो आइए जानते हैं कि वेब होस्टिंग के क्या-क्या फीचर्स होते हैं।

वेब होस्टिंग क्या है हिंदी, वेब होस्टिंग करने की क्या प्रक्रिया है, सबसे अच्छी होस्टिंग कौन सी है, होस्टिंग से क्या फायदा है, होस्टिंग क्यों महत्वपूर्ण है, web Hosting kya hai in Hindi, वेब होस्टिंग के प्रकार, वेब होस्टिंग इन हिंदी, Web Hosting meaning in Hindi, वेब होस्टिंग करने की क्या प्रक्रिया होती है समझाइए, What is Web Hosting in Hindi

बैंडविड्थ (Bandwidth) :

आपकी वेबसाइट पर एक सेकंड में कितना डेटा एक्सेस किया जा सकता है, इसे हम बैंडविड्थ कहते हैं। जब कोई आपकी वेबसाइट तक पहुंचता है, तो आपका सर्वर जानकारी साझा करने के लिए कुछ डेटा का उपयोग करता है, यदि आपकी बैंडविड्थ कम है और अधिक उपयोगकर्ता आपकी वेबसाइट तक पहुंच रहे हैं, तो आपकी वेबसाइट के डाउन होने की संभावना अधिक है।

इसके जरिए आप बेहतर तरीके से समझ सकते हैं कि आपकी वेबसाइट पर आने वाले विजिटर्स के बीच किस डेटा बैंडविड्थ को ट्रांसफर किया जा रहा है।

बैंडविड्थ जितनी अधिक होगी, उतने अधिक लोग बिना किसी रुकावट के एक साथ किसी भी वेबसाइट तक पहुंच सकेंगे।

 

बैकअप (Backup) :

जिस तरह से संग्रहीत डेटा का आपके कंप्यूटर से बैकअप लिया जाता है, इसी तरह सर्वर में संग्रहीत डेटा का बैकअप लेना भी उतना ही महत्वपूर्ण है।

सर्वर भी एक प्रकार का कंप्यूटर होता है, अगर किसी तकनीकी समस्या के कारण सर्वर डाउन हो जाता है तो आपका डेटा खोने का डर रहता है। इस समस्या को स्थायी रूप से दूर करने के लिए आपको अपने वेब होस्टिंग प्रदाता (वेब ​​होस्टिंग सेवा प्रदाता) से ‘बैकअप’ की सुविधा लेनी होगी।

 

एफ़टीपी एक्सेस (FTP Access) :

एफ़टीपी एक्सेस की मदद से आप सर्वर में स्टोर किए गए डेटा को अपने कंप्यूटर में डाउनलोड कर सकते हैं। आप अपने कंप्यूटर से अपनी वेबसाइट की HTML/PHP/AP फ़ाइलें, ग्राफ़िक्स, चित्र और वीडियो इत्यादि को FTP के माध्यम से वेब सर्वर पर स्थानांतरित कर सकते हैं।

 

डेटाबेस (Database) :

अपना होस्टिंग प्लान चुनते समय आप अपने डेटा के अनुसार डिस्क स्पेस ले सकते हैं। यही है, यह सर्वर पर कुछ क्षमता का उपयोग करने की अनुमति देता है। जिसमें आप अपने उपयोगकर्ताओं के लिए शामिल सामग्री जैसे HTML फ़ाइलें, चित्र और वीडियो आदि डाल सकते हैं।

 

अपटाइम (Uptime) :

हर प्रमुख वेब होस्टिंग सेवा कंपनी इन दिनों 99.99% अपटाइम की गारंटी देती है। आपकी वेबसाइट के ऑनलाइन उपलब्ध रहने के समय को अपटाइम कहा जाता है। कभी-कभी कुछ तकनीकी समस्याओं के कारण हमारी वेबसाइट बंद हो जाती है, जिसका अर्थ है कि हमें इसे एक्सेस करने में कठिनाइयों का सामना करना पड़ता है। हम इसे डाउनटाइम कहते हैं।

 

ग्राहक सहेयता (Customer Support) :

यह किसी भी वेब होस्टिंग सेवा की सबसे महत्वपूर्ण विशेषता है। सभी प्रमुख होस्टिंग कंपनियां अपने ग्राहकों को 24×7 ग्राहक सहायता प्रदान करती हैं। यदि आपको अपनी वेबसाइट में किसी प्रकार की तकनीकी समस्या है, तो आप अपनी समस्या के समाधान के लिए सीधे हमारे ग्राहक सेवा केंद्र पर कॉल, चैट या ईमेल भेज सकते हैं।


Follow us on : Facebook | Instagram | Twitter | Telegram