101+ Best Daru Shayari in Hindi | शराब पर शायरी | Sharab Shayari in Hindi

Daru Shayari in Hindi | शराब पर शायरी | Sharab Shayari in Hindi :

नमस्कार दोस्तों, यहां हम आपके लिऐ Hindi Web Quotes वेबसाईट पर हिंदी में शराबी गजल शायरी, Daru Shayari in Hindi, शराब दर्द भरी शायरी, Shayari on Daru, Daru Status in Hindi, Sharab Status, शराब पर मजेदार शायरी, बारिश और शराब शायरी, दारू पर शायरी, दारू बदनाम करती शायरी, दोस्त शराब शायरी, Shayari on Sharab, Sharab Sad Shayari, दारू शायरी, Daru wali Shayari, दोस्त और शराब शायरी, शराब की बोतल पर शायरी, Daru Attitude Status का बड़ा संग्रह लेकर आए हैं। आप अपनी पसंद के अनुसार सभी प्रकार की शायरी चुन सकते है और जहां पर आप अपने दोस्तों को चांहे जितना शेयर कर सकते है।

 

Daru Shayari | शराब पर शायरी | Nasha Sharab Shayari

कुछ सही तो कुछ खराब कहते हैं
लोग हमें बिगड़ा हुआ नवाब कहते हैं
हम तो बदनाम हुए कुछ इस कदर कि
पानी भी पियें तो लोग शराब कहते हैं।


बैठे हैं दिल में ये अरमां जगाये,
के वो आज नजरों से अपनी पिलाये
मजा तो तब ही आये पीने का यारो,
शराब हम पियें और नशा उनको हो जाए।


नशा हम किया करते हैं
इल्ज़ाम शराब को दिया करते हैं
कसूर शराब का नहीं उनका है
जिसका चेहरा हम जाम में तलाश किया करते हैं।


Read More :

खतरनाक बदमाशी स्टेटस | Best Badmashi Status in Hindi | बदमाशी शायरी


शराब पर शायरी

Daru Shayari, शराब पर शायरी, Sharab Shayari

नशा सिर्फ में प्यार में देखा है
तेरे जाने के बाद सब पानी होते देखा है।


कुछ नशा तो आपकी बात का है
कुछ नशा तो धीमी बरसात का है
हमें आप यूँ ही शराबी ना कहिये
इस दिल पर असर तो आप से मुलाकात का है।


जाम तो यू ही बदनाम है यारों कभी इश्क करके देखो,
या तो पीना भूल जाओगे या फिर पी-पी के जीना भूल जाओगे।


Daru Shayari in Hindi

Daru Shayari, शराब पर शायरी, Sharab Shayari

पिला दो घुट शराब तुम अपनी नशीली आँखों से,
हमें नशे में बहकने दो अपनी बाहों में।


जाम पीने का मज़ा जिंदगी जीने से जादा हैं
अगर इसे न पिया तो जिंदगी जीने का मज़ा क्या हैं।


तेरी उन यादों में हर रोज मै एक ओर
चढ़ा देता हू अब बस कर मुझे यू शताना तू।


Read More :

Best Attitude Status & Attitude Shayari in Hindi | एटीट्यूड शायरी


Shayari on Sharab

Daru Shayari, शराब पर शायरी, Sharab Shayari

मजा तो तब ही आये पीने का यारो,
शराब हम पियें और नशा उनको हो जाए।


आओ आज इस शराब को खत्म करते हैं,
एक बॉटल तुम खत्म करो, एक बॉटल हम खत्म करते है।


मैयखाने मे आऊंगा मगर पिऊंगा नही साकी
ये शराब मेरा गम मिटाने की औकात नही रखती।


Quotes on Daru in Hindi

अब के सावन में सबका हिसाब कर दूंगा
जिसका जो वाकी है वो भी हिसाब कर दूंगा।


कुछ तो शराफत सीख ले इश्क शराब से,
बोतल पे लिखा तो मैं जानलेवा हूँ।


शराब और मेरा कई बार ब्रेकअप हो चुका है
पर कमबख्त हर बार मुझे मना लेती है।


Sharab Shayari in Hindi

Daru Shayari, शराब पर शायरी, Sharab Shayari

तुम क्या जानो शराब कैसे पिलाई जाती है
खोलने से पहले बोतल हिलाई जाती है
फिर आवाज़ लगायी जाती है
आ जाओ दर्दे दिलवालों
यहाँ दर्द-ऐ-दिल की दावा पिलाई जाती है।


यूँ तो ना थी जनम से पीने की आदत,
शराब को तन्हा देखा तो तरस खा के पी गये।


एक शराब की बोतल दबोच रखी है,
तुजे भुलाने की तरकीब सोच रखी है।


पुरानी शराब शायरी

यही तो ज़माने का उसूल है
जरूरत हो तो खुदा वरना बंदा फ़िज़ूल है।


पर्दा तो होश वालों से किया जाता है हुज़ूर,
तुम बेनक़ाब चले आओ हम तो नशे में है।


इश्क़-ऐ-बेवफ़ाई ने डाल दी है आदत बुरी
मैं भी शरीफ हुआ करता था इस ज़माने में
पहले दिन शुरू करता था मस्जिद में नमाज़ से अब ढलती है
शाम के साथ मखाने में।


Quotes on Sharab

कहते हैं शराब जितनी पुरानी हो उतनी अच्छी होती है,
पर हमारे देश वाले पुरानी होने कहाँ देते है।


रोक दो मेरे जनाज़े को ज़ालिमों
मुझ में जान आ गयी है पीछे मुड़ के देखो कमीनो
दारू की दुकान आ गयी है।


दूसरों के लिए ख़राब ही सही,
हमारे लिए तो ज़िन्दगी बन जाती है,
सौ ग़मों को निचोड़ने के बाद ही,
एक कतरा शराब बन जाती है।


दारू बदनाम करती शायरी

मैंने कहा रोक दो मेरे जनाज़े को कि मुझमें जान आ गई है
पीछे मुड़कर देखो यारों दारु की दुकान आ गई है।


हर किसी बात का जवाब नहीं होता
हर जाम इश्क में ख़राब नहीं होता
यूँ तो झूम लेते है नशे में रहने वाले
मगर हर नशे का नाम शराब नहीं होता।


पूरा अब मेरा ये ख़्वाब हो जाये,
लिख दू उनके दिल पे किताब हो जाये
ना मयकदे की जरूरत हो ना मयखाने की,
अगर नज़र से पिला दो शराब हो जाये।


दारू पर शायरी

तेरी आँखों के ये जो प्याले हैं,
मेरी अंधेरी रातों के उजाले हैं,
पीता हूँ जाम पर जाम तेरे नाम का,
हम तो शराबी बे-शराब वाले हैं।


मदहोश हम हरदम रहा करते हैं,
और इल्ज़ाम शराब को दिया करते हैं,
कसूर शराब का नहीं उनका है यारों,
जिनका चेहरा हम हर जाम में
तलाश किया करते हैं।


नतीजा बेवजह महफिल से उठवाने का क्या होगा,
न होंगे हम तो साकी तेरे मैखाने का क्या होगा।


शराब शायरी 2 लाइन

इतनी पीता हूँ कि मदहोश रहता हूँ,
सब कुछ समझता हूँ पर खामोश रहता हूँ,
जो लोग करते हैं मुझे गिराने की कोशिश,
मैं अक्सर उन्ही के साथ रहता हूँ।


सपनो का हमने अम्बर बना रखा है,
और जनाब देशी है हम,
इसीलिए दारू का हमने चैम्बर बना रखा है।


एक घूँट शराब की जो मैंने लबों से लगायी,
तो आया समझ कि इससे भी कड़वी है तेरी सच्चाई।


शराबी गजल शायरी

निगाहे-मस्त से मुझको पिलाये जा साकी
हसीं निगाह भी जामे-शराब होती है।


तुम हसीन हो गुलाब जैसी हो
बहुत नाजुक हो ख्वाब जैसी हो
दिल की धड़कन में आग लगाती हो
होठों से लगाकर पी जाऊँ तुम्हे सर से पांव तक शराब जैसी हो।


उनकी आंखें यह कहती रहती हैं
लोग नाहक शराब पीते हैं।


Nasha Sharab Shayari

थोड़ी सी पी शराब थोड़ी उछाल दी,
कुछ इस तरह से हमने जवानी निकाल दी।


मुझ तक कब उनकी बज़्म में आता था दौर-ए-जाम
साक़ी ने कुछ मिला न दिया हो शराब में।


उन्हीं के हिस्से में आती है ये प्यास अक्सर,
जो दूसरों को पिलाकर शराब पीते हैं।


Daru Sad Shayari

दवा, दारू ओर इश्क़ की बीमारी जिसे लग जाती हैं ना दोस्त,
उसकी जिंदगी तबाह ही समझों तुम।


शराब शरीर को खत्म करती है
शराब समाज को ख़तम करती है
आओ आज इस शराब को खत्म करते हैं
एक बॉटल तुम खत्म करो एक बॉटल हम खत्म करते है।


मैं तोड़ लेता अगर तू गुलाब होती,
मैं जवाब बनता अगर तू सवाल होती
सब जानते है मैं नशा नही करता
मगर मैं भी पी लेता अगर तू शराब होती।


Daru Shayari in Hindi

हम जी रहे थे उनका नाम लेकर,
वो गुजरते थे हमारा सलाम लेकर,
कल वो कह गए भुला दो हमको
हमने पूछा कैसे, वो चले गए
हाथों में जाम देकर।


तुम्हें जो सोंचे तो होता है कैफ सा तारी,
तुम्हारा जिक्र भी जामे शराब जेसा है।


हे ये शराब दर्द की दवा मेरे,
इसे पिने में कोई खराबी नहीं,
होता है जब दिल में दर्द तो पी लेता हूँ,
वैसे हूँ में शराबी नहीं।


Daru Shayari Status

एक जाम उल्फत के नाम एक जाम मोहब्बत के नाम
एक जाम वफ़ा के नाम
पूरी बोतल बेवफा के नाम और पूरा ठेका दोस्तों के नाम।


जाम पीकर अपने गम को कहाँ कम किया हमने
हर वक़्त तेरी यादो में इन आँखों को नम किया हमने
चाहा था तुझे बुलाना पर याद ही किया हमने
और जिंदगीके बाद भी कब्र से हाथ निकाल कर
तेरा ही इंतजार किया हमने।


प्यार के नाम पे यहाँ तो लोग खून पीते है,
मुझे खुद पे नाज़ है की मैं सिर्फ शराब पीता हु।


शराब के दोहे

जूठ कहते है लोग
शराब ग़मो को हल्का कर देती है,
मेने अक्सर देखा है लोंगो को
नशे में रोते हुए।


तुम्हें जो सोचें तो होता है कैफ़-सा तारी,
तुम्हारा ज़िक्र भी जामे-शराब जैसा है।


गिरी मिली एक बोतल शराब की,
तो ऐसा लगा मुझे,
जैसे बिखरा पड़ा हो सुकून,
किसी के एक रात का।


Follow us On : Facebook | Instagram | Twitter | Telegram

Share via
Copy link
Powered by Social Snap