भगवान गौतम बुद्ध के अनमोल वचन | Gautam Buddha Quotes in Hindi

भगवान गौतम बुद्ध का अल्प परिचय :

भगवान गौतम बुद्ध (Gautam Buddha) का जन्म कपिलवस्तु के पास लुम्बिनी नामक स्थान पर हुआ था। उनको बचपन में सिद्धार्थ नाम से पहचाना जाता था। उन्होंने अपने 27 साल की उम्र में घर छोड़कर सांसारिक जीवन से सन्यास ले लिया। भगवान गौतम बुद्ध ने अपना पहला उपदेश सारनाथ में दिया और बौद्ध धर्म की स्थापना की। जिस स्थान पर भगवान बुद्ध ने आत्मज्ञान या ज्ञान प्राप्त किया, उसे बोधगया कहा जाता था।

भगवान बुद्ध ने चार आर्य सत्यों का प्रचार किया। वैशाख पूर्णिमा के दिन उन्होंने बोधगया में बोधि वृक्ष के नीचे आत्मज्ञान प्राप्त किया, तब से इस दिन को बुद्ध पूर्णिमा के रूप में जाना जाता है। बुद्ध पूर्णिमा बौद्ध धर्म के अनुयायियों के लिए सबसे बड़ा त्योहार है। बौद्ध ग्रंथों का पाठ किया जाता है। इस पूर्णिमा पर किए गए अच्छे कार्यों से पुण्य की प्राप्ति होती है। इस दिन पक्षियों को पिंजरों से मुक्त किया जाता है।

आज बौद्ध धर्म विश्व के प्रमुख धर्मों में से एक है और बालना, श्रीलंका, म्यानमार, जापान, चीन, वियतनाम, ताइवान, थाईलैंड, कंबोडिया, हांगकांग, मंगोलिया, तिब्बत, भूटान सहित अन्य देशों में भी माना जाता है।

आइये आज हम भगवान गौतम बुद्ध के अनमोल वचनों को जानते हैं और इन्हें पढ़कर आध्यात्मिक शांति का अनुभव करते हैं। तो चलिए आज हम सभी भगवान गौतम बुद्ध के अनमोल विचारो, उनके कहे गये हुए भगवान गौतम बुद्ध के अनमोल वचन, Gautam Buddha Quotes in Hindi, Gautam Buddha Updesh, Gautam Buddha Anmol Vichar, गौतम बुद्ध के अनमोल विचार और मानवता के उपदेशो को जानते है।

 

भगवान गौतम बुद्ध के अनमोल वचन | Gautam Buddha Quotes in Hindi :

अतीत पे ध्यान मत दो, भविष्य के बारे में मत सोचो, अपने मन को वर्तमान क्षण पे केन्द्रित करो। – भगवान गौतम बुद्ध


जैसे मोमबत्ती बिना आग के नहीं जल सकती, मनुष्य भी आध्यात्मिक जीवन के बिना नहीं जी सकता। – भगवान गौतम बुद्ध


जीवन में आपका उद्देश्य अपना उद्देश्य पता करना है और उसमे जी जान से जुट जाना है। – भगवान गौतम बुद्ध


जीवन में किसी उद्देश्य या लक्ष्य तक पहुंचने से ज्यादा महत्वपूर्ण उस यात्रा को अच्छे से संपन्न करना होता है। – भगवान गौतम बुद्ध


आप पूरे ब्रह्माण्ड में किसी ऐसे व्यक्ति की तलाश कर सकते हैं जो आपसे अधिक आपके प्रेम और स्नेह के लायक है, और वह व्यक्ति आपको कहीं नहीं मिलेगा. जितना इस ब्रह्माण्ड में कोई और आपके प्रेम और स्नेह के अधिकारी है, उतना ही आप खुद है। – भगवान गौतम बुद्ध


घृणा घृणा से नहीं प्रेम से ख़त्म होती है, यह शाश्वत सत्य है। – भगवान गौतम बुद्ध


किसी जंगली जानवर की अपेक्षा एक कपटी और दुष्ट मित्र से अधिक डरना चाहिए, जानवर तो बस आपके शरीर को नुक्सान पहुंचा सकता है, पर एक बुरा मित्र आपकी बुद्धि को नुक्सान पहुंचा सकता है। – भगवान गौतम बुद्ध


जो आप सोचते हैं वो आप बन जाते हैं। – भगवान गौतम बुद्ध


हर सुबह हम पुनःजन्म लेते हैं. हम आज क्या करते हैं यही सबसे अधिक मायने रखता है। – भगवान गौतम बुद्ध


किसी भी हालात में तीन चीजें कभी भी छुपी नहीं रह सकती, वो है : सूर्य, चन्द्रमा और सत्य। – भगवान गौतम बुद्ध


हजारों खोखले शब्दों से अच्छा वह एक शब्द है जो शांति लाये। – भगवान गौतम बुद्ध


शरीर को अच्छी सेहत में रखना हमारा कर्तव्य है, नहीं तो हम अपना मन मजबूत और स्पष्ठ नहीं रख पायेंगे। – भगवान गौतम बुद्ध


आप केवल वही खोते हैं जिससे आप चिपक जाते हैं। – भगवान गौतम बुद्ध


वह जो पचास लोगों से प्रेम करता है उसके पचास संकट हैं, वो जो किसी से प्रेम नहीं करता उसके एक भी संकट नहीं है। – भगवान गौतम बुद्ध


आपके पास जो कुछ भी है है उसे बढ़ा-चढ़ा कर मत बताइए, और ना ही दूँसरों से ईर्ष्या कीजिये. जो दूँसरों से ईर्ष्या करता है उसे मन की शांति नहीं मिलती। – भगवान गौतम बुद्ध


शक की आदत से भयावह कुछ भी नहीं है, शक लोगों को अलग करता है, यह एक ऐसा ज़हर है जो मित्रता ख़त्म करता है और अच्छे रिश्तों को तोड़ता है, यह एक काँटा है जो चोटिल करता है, एक तलवार है जो वध करती है। – भगवान गौतम बुद्ध


कोई व्यक्ति इसलिए ज्ञानी नहीं कहलाता क्योंकि वह सिर्फ बोलता रहता है, लेकिन अगर वह शांतिपूर्ण, प्रेमपूर्ण और निर्भय है तो वह वास्तव में ज्ञानी कहलाता है। – भगवान गौतम बुद्ध


हम जो कुछ भी हैं वो हमने आज तक क्या सोचा इस बात का परिणाम है। यदि कोई व्यक्ति बुरी सोच के साथ बोलता या काम करता है, तो उसे कष्ट ही मिलता है| यदि कोई व्यक्ति शुद्ध विचारों के साथ बोलता या काम करता है, तो उसकी परछाई की तरह ख़ुशी उसका साथ कभी नहीं छोड़ती। – भगवान गौतम बुद्ध


एक जग बूँद-बूँद कर के भरता है। – भगवान गौतम बुद्ध


किसी विवाद में हम जैसे ही क्रोधित होते हैं हम सच का मार्ग छोड़ देते हैं, और अपने लिए प्रयास करने लगते हैं। – भगवान गौतम बुद्ध


अपने मोक्ष के लिए खुद ही प्रयत्न करें. दूँसरों पर निर्भर ना रहे। – भगवान गौतम बुद्ध


जिस तरह एक जलते हुए दीये से हजारों दीपक रोशन किए जा सकते है, फिर भी उस दीये की रोशनी कम नहीं होती, उसी तरह खुशियां बांटने से हमेशा बढ़ती है, कभी कम नहीं होती। – भगवान गौतम बुद्ध


सच्चा प्रेम समझ से उत्पन्न होता है। – भगवान गौतम बुद्ध


ख़ुशी अपने पास बहुत अधिक होने के बारे में नहीं है, ख़ुशी बहुत अधिक देने के बारे में है। – भगवान गौतम बुद्ध


जीवन में आप चाहें जितनी अच्छी-अच्छी किताबें पढ़ लो, कितने भी अच्छे शब्द सुनो, लेकिन जब तक आप उनको अपने जीवन में नहीं अपनाते तब तक उसका कोई फायदा नहीं होगा। – भगवान गौतम बुद्ध


चाहे आप कितने पवित्र शब्द पढ़ लें या बोल लें, वह आपका क्या भला करेंगे जब तक आप उन्हें उपयोग में नहीं लाते। – भगवान गौतम बुद्ध


अगर आप वास्तव में स्वयं से प्रेम करते हैं, तो आप कभी भी किसी को ठेस नहीं पहुंचा सकते। – भगवान गौतम बुद्ध


आप अपने क्रोध के लिए दंड नहीं पाओगे, आप अपने क्रोध के द्वारा दंड पाओगे। – भगवान गौतम बुद्ध


सत्य के मार्ग पे चलते हुए कोई दो ही गलतियाँ कर सकता है, पूरा रास्ता ना तय करना और इसकी शुरआत ही ना करना। – भगवान गौतम बुद्ध


हर चीज पर सन्देह करो स्वयं अपना प्रकाश ढूंढो। – भगवान गौतम बुद्ध


जूनून जैसी कोई आग नहीं है, नफरत जैसा कोई दरिंदा नहीं है, मूर्खता जैसी कोई जाल नहीं है, लालच जैसी कोई धार नहीं है। – भगवान गौतम बुद्ध


बुराई होनी चाहिए ताकि अच्छाई उसके ऊपर अपनी पवित्रता साबित कर सके। – भगवान गौतम बुद्ध


स्वयं पर विजय प्राप्त करना दूँसरों पर विजय प्राप्त करने से बड़ा काम है। – भगवान गौतम बुद्ध


सबसे अँधेरी रात अज्ञानता है। – भगवान गौतम बुद्ध


स्वस्थ्य सबसे बड़ा उपहार है, संतोष सबसे बड़ा धन है, वफादारी सबसे बड़ा सम्बन्ध है। – भगवान गौतम बुद्ध


पवित्रता या अपवित्रता अपने आप पर निर्भर करती है, कोई भी दूँसरे को पवित्र नहीं कर सकता। – भगवान गौतम बुद्ध


जो बुद्धिमानी से जिए हैं उन्हें मृत्यु का भी भय नहीं होना चाहिए। – भगवान गौतम बुद्ध


क्रोध को पाले रखना गर्म कोयले को किसी और पर फेंकने की नीयत से पकड़े रहने के सामान है इसमें आप ही जलते है। – भगवान गौतम बुद्ध


स्वास्थ्य सबसे बड़ा उपहार है, संतोष सबसे बड़ा धन है, वफ़ादारी सबसे बड़ा संबंध है। – भगवान गौतम बुद्ध


प्रसन्नता का कोई मार्ग नहीं है: प्रसन्नता ही मार्ग है। – भगवान गौतम बुद्ध


हमें हमारे सिवा कोई और नहीं बचाता, न कोई बचा सकता है और न कोई ऐसा करने का प्रयास करे. हमें खुद ही इस मार्ग पर चलना होगा। – भगवान गौतम बुद्ध


शांति अन्दर से आती है इसे बाहर मत ढूंढो। – भगवान गौतम बुद्ध


यदि आपकी दया आपको सम्मिलित नहीं करती, तो वो अधूरी है। – भगवान गौतम बुद्ध


एक योजना जिसे विकसित कर क्रियान्वित किया जाता है वो उस योजना से अच्छी है जो बस एक योजना के रूप में ही मौजूद है। – भगवान गौतम बुद्ध


अंत में ये चीजें सबसे अधिक मायने रखती हैं, आपने कितने अच्छे से प्रेम किया, आपने कितनी पूर्णता के साथ जीवन जिया, आपने कितनी गहराई से अपनी कुंठाओं को जाने दिया। – भगवान गौतम बुद्ध


बिना सेहत के जीवन जीवन नहीं है; बस पीड़ा की एक स्थिति है- मौत की छवि है। – भगवान गौतम बुद्ध


भविष्य के सपनों में मत खोओ और भूतकाल में मत उलझो सिर्फ वर्तमान पर ध्यान दो। जीवन में खुश रहने का यही एक सही रास्ता है। – भगवान गौतम बुद्ध


दर्द निश्चित है, दुख वैकल्पिक है। – भगवान गौतम बुद्ध


सबकुछ समझने का अर्थ है सबकुछ माफ़ कर देना। – भगवान गौतम बुद्ध


जो जगा है उसके लिए रात लम्बी है, जो थका है उसके लिए दूँरी लम्बी है, जो मूर्ख सच्चा धर्म नहीं जानता उसके लिए जीवन लम्बा है। – भगवान गौतम बुद्ध


मन और शरीर दोनों के लिए स्वास्थय का रहस्य है, अतीत पर शोक मत करो, ना ही भविष्य की चिंता करो, बल्कि बुद्धिमानी और ईमानदारी से वर्तमान में जियो। – भगवान गौतम बुद्ध


चलिए ऊपर उठें और आभारी रहे, क्योंकि अगर हमने बहुत नहीं तो कुछ तो सीखा, और अगर हमने कुछ भी नहीं सीखा, तो कम से कम हम बीमार तो नहीं पड़े, और अगर हम बीमार पड़े तो कम से कम हम मरे नहीं; इसलिए चलिए हम सभी आभारी रहे। – भगवान गौतम बुद्ध


पहुँचने से अधिक ज़रूरी ठीक से यात्रा करना है। – भगवान गौतम बुद्ध


मैं कभी नहीं देखता कि क्या किया जा चुका है, मैं हमेशा देखता हूँ कि क्या किया जाना बाकी है। – भगवान गौतम बुद्ध


Follow us On : Facebook | Instagram | Twitter | Telegram

Leave a Comment

Share via
Copy link
Powered by Social Snap