Breakup Shayari in Hindi | ब्रेकअप शायरी हिंदी | Latest Sad Love Shayari

Breakup Shayari in Hindi (ब्रेकअप शायरी हिंदी) :

हम सभी जीवन में कभी ना कभी प्यार में पड़ जाते है। प्यार का एहसास ही कुछ अलग होता है। अपने से भी ज्यादा उन्ह लोगो को जादा अहमियत देते है। परन्तु जिंदगी में एक समय ऐसा आता है, वहीं रिश्ते टूटने के कगार पे आ जाते है। कभी कभी तो वो टूट भी जाते हैं। वो एहसास बहुत ही दर्दनाक होता है।

इन दिल में छुपी हुई भावनाएं को व्यक्त करने का सबसे अच्छा तरीका है ब्रेकअप शायरी। इस ब्रेकअप शायारी हिंदी (Sad Love Shayari) से अच्छा कोई विकल्प नहीं है। यहां हम अपने Hindi Web Quotes वेबसाईट पर हिंदी में ब्रेकअप शायरी (Breakup Shayari in Hindi, Love Breakup Shayari in Hindi, Sad Breakup Shayari, Sad Love Shayari, Breakup Status & Quotes in Hindi, Breakup Shayari for Girlfriend, Breakup Shayari for Boyfriend, Breakup shayari images, Breakup Shayari in Two Lines) का बड़ा संग्रह लेकर आए हैं। आप अपनी मनोदशा के अनुसार सभी प्रकार की शायरी चुन सकते है और जहां पर आप अपने दोस्तों को चांहे जितना शेयर कर सकते है।

 

ब्रेकअप शायरी हिंदी | Breakup Shayari in Hindi :

Breakup Shayari in Hindi | ब्रेकअप शायरी हिंदी | Latest Sad Love Shayari

आखिरी बार तेरे प्यार को सजदा कर लूँ ,
लौट कर फिर तेरी महफ़िल में ना आएंगे ,
अपनी बर्बाद मोहब्बत का जनाज़ा लेकर ,
तेरी दुनिया से बहुत दूर चले जायेंगे।


अक्सर नशा हमें हो जाता है,
और इल्जाम शराब पे आता है,
कसूर तो उस जाम का नही दोस्तों,
कसूर तो उस चेहेरे का हे
जो हमे हर जाम में नज़र आता है।


बड़ी अजीब है ये मोहब्बत,
वरना अभी उम्र ही क्या थी शायरी करने की।


किसी ने पूछा इतना अच्छा कैसे लिख लेते हो,
मैंने कहा दिल तोड़ना पड़ता है,
लफ़्ज़ों को जोड़ने से पहले।


Breakup Shayari in Hindi | ब्रेकअप शायरी हिंदी | Latest Sad Love Shayari

परेशान दिल को और परेशान न कर अगर इश्क़ है,
तो इश्क़ कर प्यार का नाम लेकर दिल से खिलवाड़ न कर।


बारिश‬ के ‪बाद‬ तार पर ‪टंगी‬ ‪आख़री‬ ‪‎बूंद‬ से पूछना,
क्या‬ होता है ‪‎अकेला पन‬।


क़दर करलो उनकी जो तुमसे बिना मतलब की चाहत करते हैं,
दुनिया में ख्याल रखने वाले कम और तकलीफ देने वाले ज़्यादा होते है।


Breakup Shayari in Hindi | ब्रेकअप शायरी हिंदी | Latest Sad Love Shayari

इंतज़ार रहता है हर शाम तेरा
यादें कटती हैं ले-ले कर नाम तेरा
मुद्दत से बैठे हैं ये आस पाले कि
आज आयेगा कोई पैगाम तेरा।


खुद को माफ़ नहीं कर पाओगे,
जिस दिन जिंदगी में हमारी कमी पाओगे।


जिंदगी में उसे ठोकर के सिवा कुछ ना मिले
जिस तरह उसने मुझे ठुकराया है,
भगवान करे उसे भी किसी से बेवफ़ाई मिले।


दिल से बड़ी कोई क़ब्र नहीं है,
रोज़ कोई ना कोई एहसास दफ़न होता है।


Breakup Shayari in Hindi | ब्रेकअप शायरी हिंदी | Latest Sad Love Shayari

ये मत पूछ के एहसास की शिद्दत क्या थी
धूप ऐसी थी के साए को भी जलते देखा
बस तेरी यादों से ही है तारीफ मेरी
वर्ना ये सारा जहान तो मुझे अजनबी सा लगता है।


रोज़ एक नई तकलीफ, रोज़ एक नया गम
ना जाने कब ऐलान होगा के मर गए हम।


साथ भी अकेला,राह भी अकेली
कैसी है यह मोहबत की पहेली।


Breakup Shayari in Hindi | ब्रेकअप शायरी हिंदी | Latest Sad Love Shayari

क्या चाहूँ रब से तुम्हें पाने के बाद,
किसका करूँ इंतज़ार तेरे आने के बाद,
क्यों मोहब्बत में जान लुटा देते हैं लोग,
मैंने भी यह जाना इश्क़ करने के बाद।


लिखना तो ये था कि खुश हूँ तेरे बगैर भी
पर कलम से पहले आँसू कागज़ पर गिर गया।


बेवफा कह के बुलाया तो बुरा मान गये,
आइना सामने आया तो बुरा मान गये,
उनकी हर रात गुजरती है दिवाली की तरह,
हमने एक दीप जलय तो बुरा मान गये।


तकलीफ ये नही के किस्मत ने मुझे धोखा दिया,
मेरा यकीन तुम पर था किस्मत पर नही।


एक सफ़र ऐसा भी होता है दोस्तों,
जिसमें पैर नहीं दिल थक जाता है।


Breakup Shayari in Hindi | ब्रेकअप शायरी हिंदी | Latest Sad Love Shayari

मीठी-मीठी यादों को दिल में सजा लेना,
साथ गुजारे पल को पलकों में बसा लेना,
दिल को फिर भी न मिले सुकून तो,
मुस्कुरा के मुझे अपने सपनों में बुला लेना।


ज़्यादा कुछ नहीं बदला उसके और मेरे बीच,
पहले नफरत नहीं थी और अब प्यार नहीं है।


जादू है उसकी हर एक बात मे,
याद बहुत आती है दिन और रात मे,
कल जब देखा था मैने सपना रात मे,
तब भी उसका ही हाथ था मेरे हाथ में।


मोहब्बत ख़ूबसूरत होगी, किसी और दुनियाँ में
इधर तो हम पर जो गुज़री है, हम ही जानते हैं।


पानी नही देना था तो पेड क्यूं लगाया,
मोहब्बत नही करना तो दिल क्यू लगाया।


अब क्या बताये किसी को के ये क्या सजा है,
इस बेनाम ख़ामोशी की क्या वजह है।


कभी टूट कर बिखरो तो मेरे पास आ जाना,
मुझे अपने जैसे लोग बहुत पसंद हैं।


Breakup Shayari in Hindi | ब्रेकअप शायरी हिंदी | Latest Sad Love Shayari

मंजिले मुशिकले थी पर हम खोये नही थें
दर्द था दिल मे पर रोये नही थे,
कोई नही आज हमारा जो हमसे पुछे
जाग रहे हो या किसी के लिये सोये नही।


लगा दिया दाग तो दाग को धोना कैसा,
जो अपना था ही नहीं उसके लिए रोना कैसा।


मैने कभी किसी को आजमाया नही
जितना प्यार दिया उतना कभी पाया नही
किसी को हमारी भी कमी महसूस हो
सायद खूदा ने मुझे ऐसा बनाया नही।


दुख तो अपने ही देते हैं वरना गैरों को कैसे पता
की हमें तकलीफ किस बात से होती है।


Breakup Shayari in Hindi | ब्रेकअप शायरी हिंदी | Latest Sad Love Shayari

मैं लोगों से मुलाक़ातों के लम्हें याद रखता हूँ
मैं बातें भूल भी जाऊं पर लहज़े याद रखता हूँ
जरा सा हट के चलता हूँ ज़माने की रवायत से
जो सहारा देते हैं वो कन्धे हमेशा याद रखता हूँ।


चलो माना तुम्हारी आदत हैं तडपाना,
मगर जरा सोचो अगर कोई मर गया तो।


छोङो ना यार, क्या रखा है सुनने और सुनाने मेँ,
किसी ने कसर नहीँ छोङी दिल दुखाने मेँ।


कितनी आसानी से कह दिया तुमने
की बस अब तुम मुझे भूल जाओ
साफ – साफ लफ्जो मे कह दिया होता
की बहुत जी लिये अब तुम मर जाओ।


लगाई तो थी आग उसकी तस्वीर में रात को,
सुबह देखा तो मेरा दिल छालों से भरा पड़ा था।


ज़्यादा कुछ नहीं बदला उसके और मेरे बीच,
पहले नफरत नहीं थी और अब प्यार नहीं है।


प्यार Bluetooth की तरह होता है
पास हो तो Connected और दुर चला जाए तो
Searching New Device..


चल हो गया फैसला कुछ कहना ही नहीं
तू जी ले मेरे ‪बगैर‬ मुझे ‪जीना‬ ही नहीं।


मीठी रातो में धीरे से आ जाती है एक परी
कुछ ख़ुशी के सपने लाती एक परी
कहती है कि सपनो के सागर में डूब जाओ
भूल के सारे दर्द जल्दी से सो जाओ।


आपको बिना बात के ही रूठ ने कि आदत है
किसी अपने का साथ न पाने की आदत है
आप हमेशा खुश रहो मेरा क्या है दोस्तो
मैं तो आईना हूं मुझे तो टूटने की आदत है।


आदत नहीं हमे किसी को धोखा देने की
नही तो मेरा भी नाम धोखेबाज में आता।


मांगना ही छोड़ दिया हमने वक्त से
क्या पता उसके पास इंकार का भी वक्त ना हो।


बड़ी तब्दीलिया लाया हूँ अपने आप मे लेकिन,
बस तुमको याद करने की वो आदत अब भी है।


दो कश मोहब्बत के क्या लिये,
जिंदगी ही धुँआ – धुँआ हो गई।


कितनी आसानी से कह दिया तुमने की बस अब तुम मुझे भूल जाओ,
साफ – साफ लफ्जो मे कह दिया होता की बहुत जी लिये अब तुम मर जाओ।


आदत नहीं है किसी को धोखा देने की
नहीं तो हमारे भी नाम बेवफा में शामिल होता।


काश हमसे भी कोई सच में प्यार करती।
मैं रुठता एक बार
और ओ फोन हजार करती।


उपर वाला भी अपना आशिक है,
इसिलीऐ तो किसिका होने नहि देता।


हर किसी के नसीब में कहा लिखी होती हे चाहतें,
कुछ लोग दुनिया में आते हे सिर्फ तन्हाइयों के लिए।


लाखो हसीन है ईस दुनिया मै तेरी तरह,
पर किया करे हमें तो तेरी रूह से प्यार है।


तेरी नियत नहीं थी साथ चलने की,
वरना साथ निभाने वाले रास्ता देखा नहीं करते।


वो बड़े ताज्जुब से पूछ बैठा मेरे गम की वजह,
फिर हल्का सा मुस्कराया, और कहा, मोहब्बत की थी ना।


सिर्फ़ दो ही गवाह थे मेरी वफ़ा के,
एक वक्त जो गुज़र गया और एक वो जो मुकर गया।


वो मेरा वहम था कि मैँने उसे, अपना हमसफर समझा,
वो चलता तो मेरे साथ था पर किसी और की तलाश में।


कोई भी रिश्ता अधूरा नहीं होता,
बस निभाने की चाहत दोनों तरफ होनी चाहिए।


वो मेरा वहम था कि मैँने उसे, अपना हमसफर समझा,
वो चलता तो मेरे साथ था पर किसी और की तलाश में।


तुझे खोने के डर से शायद हम मर जायँगे,
तुम याद करोगे फिर मुझे लेकिन हम वापस नही आएंगे।


क़दर करलो उनकी जो तुमसे बिना मतलब की चाहत करते हैं,
दुनिया में ख्याल रखने वाले कम और तकलीफ देने वाले ज़्यादा होते है।


जिंदगी निकलती जाती है और हम सब प्यार के बिना जीना सीख लेता है।


गर शौक चढ़ा है इश्क़ का तो इम्तिहान देना तुम,
बारिश में भी मेरे अश्क़ों को पहचान लेना तुम।


नहीं करेंगे आज के बाद कभी मन्नते तुम्हारी,
खुदा जब राज़ी होगा तब तुम तो क्या हर चीज़ मेरी होगी।


खुद को माफ़ नहीं कर पाओगे,
जिस दिन जिंदगी में हमारी कमी पाओगे।


काश के वो लोट आये मुझसे ये कहने,
कि तुम कोन होते हो मुझसे बिछड़ने वाले।


मोहब्बत की शतरंज में वो बड़ा चालाक निकला,
दिल को मोहरा बना कर हमारी जिन्दगी छीन लिया।


सुनना चाहते है एक बार आवाज उनकी मगर बात करने का बहाना भी तो नहीं आता मुझे।


मुझको छोड़ने की वजह तो बता देते,
मुझसे नाराज थे या मुझ जैसे हजारों थे।


अगर तुम्हें पा लेते तो किस्सा इसी जन्म में खत्म हो जाता,
तुम्हे खोया है तो, यकीनन कहानी लम्बी चलेगी।


कल रात मैंने अपने सारे ग़म, कमरे की दीवार परलिख डाले,
बस फिर हम सोते रहे और दीवारे रोती रही।


मैंने पूछा कैसे जान जाते हो मेरे दिल की बातें,
वो बोली जब रूह में बसे हो फिर ये सवाल क्यूँ।


हमसे बिछड़कर अब वो खुश रहने लगे है,
अफ़सोस की हमने उनकी ये ख़ुशी छीन रखी थी।


भूली बिसरी सभी यादें जला जाऊंगा,
थोड़ा दर्द थम जाने दो, मैं चला जाऊंगा।


मेरे बिना रह ही जाएगी कोई न कोई कमी,
तुम जिंदगी को जितनी मर्जी सँवार लेना।


तकलीफ ये नही के किस्मत ने मुझे धोखा दिया,
मेरा यकीन तुम पर था किस्मत पर नहीं।


एक चाहत थी तेरे साथ जीने की, वरना,
मुहब्बत तो किसी से भी हो सकती थी।


बडा जालिम है साहब, दिलबर मेरा,
उसे याद रहता है, मुझे याद न करना।


किसी का विश्वास जीतना आसान है,
उससे भी आसान है उसे तोड़ना,
मुश्किल है निभाना।


जब सपना टूटता है तो सिर्फ सपना ही नहीं टूटता उसके साथ उम्मीद भी टूट जाती है।


क्या पता था कि मोहब्बत हो जाएगी,
हमे तो बस तेरा मुस्कराना अच्छा लगा था।


इतना दर्द तो खुदा ने भी नहीं लिखा होगा,
मेरी क़िस्मत में, जितना दर्द तूने मुझे प्यार कर के दिया है।


मुस्करा कर देखो तो सारा जहा रंगीन है,
वर्ना भीगी पलको से तो आईना भी धुधंला नजर आता है।


झूठी मोहब्बत, वफा के वादे, साथ निभाने की कसमें,
कितना कुछ करते हैं लोग सिर्फ वक्त गुजारने के लिए।


हमे मालूम था अपनी दिल्लगी का नतीजा,
तभी मोहब्बत से पहले शायरी सीखी है हमने।


बिखरी किताबें भीगे पलक और ये तन्हाई,
कहूँ कैसे कि मिला मुहब्बत में कुछ भी नहीं।


जिस – जिस ने मोहब्बत में, अपने महबूब को खुदा कर दिया,
खुदा ने अपने वजूद को बचाने के लिए, उनको जुदा कर दिया।


एक खूबसूरत सा रिश्ता यूँ खत्म हो गया,
हम दोस्ती निभाते रहे और उसे इश्क हो गया।


रंग तेरी यादों का उतर न पाया अब तक,
लाख बार खुद को आँसुओं से धोया हमने।


दुआ करना दम भी उसी दिन निकले,
जिस दिन तेरे दिल से हम निकले।


ना रोक कलम मुझे दर्द लिखने दे,
आज तो दर्द रोयेगा या फिर दर्द देने वाला।


देखती रहती हूँ हाथों की लकीरों को दिन रात,
यार का दीदार कहीं लिखा हो शायद।


तेरे सिवा कौन ‎समा सकता है ‎मेरे दिल में,
रूह भी गिरवी रख दी है मैंने ‎तेरी चाहत मे।


सोच रही हूँ कुछ ऐसा लिखू की वो,
पढ़ के रोये भी ना और रातभर सोये भी ना।


मुझे ढूंढने की कोशिश अब न किया कर
तूने रास्ता बदला तो मैंने मंज़िल बदल ली।


किस दर्द को लिखते हो इतना डूबकर,
एक नया दर्द दे दिया है उसने ये पूछकर।


वो जिसकी याद मे हमने खर्च दी जिन्दगी अपनी,
वो शख्श आज मुझको गरीब कह के चला गया।


तोड़ दिया इन कंपनी वालो ने ख़्वाब तुझे पाने का,
कहते है तेरा नंबर भी मेरी पहुंच से बाहर है।


तेरी बेरुखी ने छीन ली है शरारतें मेरी,
और लोग समझते हैं कि मैं सुधर गया हूँ।


जरूरी नहीं की हर बात पर तुम मेरा कहा मानों,
दहलीज पर रख दी है चाहत, आगे तुम जानो।


निकाल दिया उसने हमें अपनी ज़िन्दगी से भीगे कागज़ की तरह,
ना लिखने के काबिल छोड़ा, ना जलने के।


एक नफरत ही है जिसे दुनिया पल भर में समझ लेती है,
वरना मोहब्बत का तो पता लगने में सालों निकल जाते हैं।


मत पूछ कि क्या रंग है मेरा तेरे आगे
तू देख की क्या रंग है तेरा मेरे आगे।


Follow us On : Facebook | Instagram | Twitter | Telegram

Leave a Comment

Share via
Copy link
Powered by Social Snap